image 22

अगस्त निकला सुखा , 30 दिन में नहीं हुई बरसात

2 Min Read

25 साल का रिकॉर्ड तोड़ने वाला मानसून अगस्त माह की शुरूआत के साथ ही जनता से रूठा हुआ है। एक माह बीत गया है, लेकिन मानसून सक्रिय नहीं हो रहा हैं।

image 22

बारिश के अभाव में फसलें खराब हो रही हैं। जून-जुलाई में रिकॉर्ड तोड़ बारिश के बाद किसानों ने 15 लाख हेक्टेयर में बाजरा, ग्वार, मूंग, मोठ, तिल की बुआई कर दी। इसके बाद 27 जुलाई से मानसून कमजोर हो गया। इसके बाद आज दिन तक मानसून सक्रिय नहीं होने से बारिश ही नहीं हुई। ऐसे में अब एक माह से ज्यादा समय से खेतों में बिन पानी खड़ी फसलें जलने लगी हैं। बारिश के अभाव में किसानों की चिंता बढ़ रही है। इधर मौसम विभाग की मानें तो अगले एक-डेढ़ सप्ताह तक बारिश की संभावना नहीं है।

अगस्त में बारिश के ऐसे हालात कई दशकों बाद पहली बार रहे हैं, जिसमें पूरी तरह से सूखा पड़ा है। 15 अगस्त तक बुआई का लक्ष्य रहता है, लेकिन इस बार समय से पहले 18 जून को ही बारिश हो गई। ऐसे में जून और जुलाई में ही किसानों ने बुआई का 15 लाख हेक्टेयर लक्ष्य पूरा कर लिया। 26 जुलाई तक बाड़मेर में 443 एमएम बारिश हुई, जो औसत से कहीं ज्यादा है। औसत बारिश का आंकड़ा 324 एमएम है। अब फसलों को पानी की जरूरत है। इस बीच बारिश के अभाव में चिंतित किसान फसल को जिंदा रखने के लिए ट्यूबवैल से पानी दे रहे हैं। ऐसे में बिजली की भी डिमांड बढ़ गई है।

- विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे -
Ad image

Share This Article
By Marwadi Views Digital News & Media Group
Follow:
राजस्थान का एक मात्र लोकल मारवाङी चैनल जिस पर हर खबर सकारात्मक एवं जनहित समस्याओ के साथ साथ शहरी मुद्दै की हर छोटी बङी खबर से आम जनता को रूबरू करना हमारा मुख्य उद्धैश्य है एवं स्थानीय भाषा को बङे स्तर तक पहुचाना सहित राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलाना
Update Contents
Marwadi Views We would like to show you notifications for the latest news and updates.
Dismiss
Allow Notifications